Sunday

Freedom from unemployment

बेरोजगारी से स्वतंत्रता

 कैसे भारत ही नही विश्व समाज को बेरोजगारी से मुक्त बनाना है। प्रयास करना मानव के लिए हितकर है और जब लाभ को होना सुनिश्चित है तो साथ सबका  हो।  

15 लाख प्रति परिवार की बड़ी योजना का प्रारम्भ करना क्यों जरुरी है और जन - जन के हित में है।  
विचार करें - 
क्या लोकतंत्र कुछ लोगों को ही आराम(सत्ता - सुख ) देता रहेगा और ये कुछ लोग जनमत को अपने हित, और मन माफिक बात को भाषणों , ढेरो नैतिक /अनैतिक  विचारो से विकास का  करते रहते है।  लेकिन  ऐसे  किसी भी विचार ( योजना ) का गठन नही  करते है।  जिसके द्वारा जन -जन का विकास सुनिश्चित हो।  
क्यों ? 
 जन इस बात को को नही समझ पा रहे है कि राजनीति का मूल भाव क्या " सर्वजन हिताय सर्वजन सुखाय " के अतिरिक्त और भी कुछ है।  

जागो जन - जन जगाओ भारत 

15 लाख प्रति परिवार बड़ी योजना को शुरू होना  है। 
क्या देश के शीर्षतम स्थान पर बैठे आदरणीय जन विचार करें। 


 प्रणाम जन -जन को 
विकास क्या है ? 
विश्व के सभी देश और जन - जन विकास कर रहे है।  भारत देश सदैव से ही मानव विकास की दिशा का मार्गदर्शन करता रहा है।  भारत के सभी दिव्य परमात्मा / आत्मा योगियों ने सच्चे विकास पथ पर चलने का निर्देश अपने विचारों द्वारा प्रकट कर  मानव जाति का विकास करते जा रहे है।  यह बात हर भक्त जानता है, ईश्वर ही सब है।
वर्तमान समाज में विकास की गति को तीर्व करना आसान है जब जन -जन इस बात को विचारों में और अपने विचार से  इस विचार पर विचार करे की विकास कौन कर रहा है।  क्या लोकतंत्र में वह ही विकास कर पाते है जो सत्ता प्राप्ति के लिए अपने अनैतिक / नैतिक भाषणों से जनता को भर्मित कर रहे है।  और पहले से ही विघटित  समाज को तितर -बितर कर रहे है कि जनता का मत (वोट ) बहुमत के रूप में पा कर सत्ता -सुख प्राप्त कर विकास की बाते कर सकें। 
विकास वह शब्द है जो नवीनता की झलक दिखता है।  
वर्तमान भारत में युवा वर्ग उत्साहित है और सजग है विकास करने के लिए और प्रयासरत है। निश्चय ही धन सब नही है लेकिन माध्यम है विकास गति को तीर्व करने का जन -  जन के लिए। 
विचार करें - क्या खोट है इस योजना में 

15 लाख प्रति परिवार 

है तो चाहता हूँ।  कृपा कर बताएं जन -जन 


जन - जन का साथ ही जन - जन विकास है। आप मित्रों से मांग करता हूँ कि इस बड़ी योजना के सृजन हेतु एकजुट हो और भारत देश के एक -  जन को सम्बृद्ध कर, भारत देश को विकसित राष्ट्र बनाना है। 

   





                              -AIM-

 ALLAHABAD INTERNET MARKETING

Unlimited Opportunities for all. 

World know, better Internet & Electronic Communication devices are involving in daily life moments. Best way to get freedom from unemployment problem solved with the help of Internet marketing perfect way to generate the Work/Business/Job very easily. 


            भारत निर्माण में रोजगार का भन्डार 
सुधार और सुधार  - 

21 जून  हमारे वर्तमान प्रधानमंत्री जी श्री नरेंद्र जी के विचार प्रयास से  भारत देश के आध्यत्मिक ज्ञान योग विज्ञान  का योगा दिवस के रूप में मनाया जाना, हम सब  को सदैव गर्वान्वित करता है।  

Truth is always simple for all. 

सभी जानते है कि मानव की शाक्ति आपार है. यदि वह स्वयं को जानने का प्रयास करे तो निष्चय ही पुनः विचार करेगा कि जीवन का क्या उद्देश्य है। प्रयास ही सफलता का धोतक है। 


आश्चर्य होगा जब आप विचार करेंगे कि प्रत्येक आदमी का चेहरा अलग-अलग  होता है लेकिन साँस एक है। जिसे हम मनुष्य पकड़ सकते है वैज्ञानिक विधि से और जान सकते है वास्तविक जीवन को जो अमर है और अनन्त ऊर्जा है। जो सब रूपों में दृश्य और अदृश्य है।  निश्चय यह विषय वाणी या किसी भी बाहरी साधन से नहीं प्राप्त किया जा सकता है।  इसके लिए हम मनुष्यो को वैज्ञानिक दृष्टिकोण  और इच्छा को सही दिशा में और निश्चय साधन जो क्रियायोग विज्ञान के द्वारा उपलब्ध है , का  अनुसरण करना ही पड़ेगा आज नहीं तो कल या अगली बार या जब पुनः दृश्य होगे मानव रूप में इस स्वपन संसार में।  

हम से प्रत्येक कोई चाहत रखता है की उसे भगवान कृष्ण /गॉड /अल्लाह /नानक/बुद्ध /महावीर / और सब नाम या स्थान  या जहां से आतंरिक शान्ति का आभास होता है। मिल जाये।जिससे जीवन सफल हो जाये। 

                                      क्रियायोग विज्ञान 


वर्तमान समय द्वापर युग का आरोही काल है वर्ष 317  वां   


जैसा हम सभी देख और समझ सकते है कि मानव बुद्धि अनोखे और विषमय करी तथ्यों को उजागर कर रही है। 

Post a Comment